कुम्भ को भव्य स्वरूप से मनाने के लिए प्रधानमंत्री उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को दे निर्देश-अखाड़ा परिषद

हरिद्वार ब्यूरो


कुम्भ को भव्य स्वरूप से मनाने के लिए प्रधानमंत्री उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को दे निर्देश अखाड़ा परिषद



 

आगामी कुंभ मेले को शुरू होने में अब उस समय शेष बचा है मगर अभी भी कुंभ के स्वरूप को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है क्योंकि कोरोना महामारी का प्रकोप पूरे देश में चल रहा है मगर इससे अलग उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में माघ मेले को भव्य रूप से उत्तर प्रदेश सरकार बना रही है और इसके लिए बड़े स्तर पर पंडालों की व्यवस्था भी की जा रही है मगर हरिद्वार कुंभ में शासन और मेला प्रशासन द्वारा संतो द्वारा लगाए जाने वाले पंडालों को अभी लगाने की अनुमति नहीं दी गई है इसको लेकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और महामंत्री ने सरकार से मांग की है कि जिस तरह से 2010 का कुंभ हरिद्वार में मनाया गया था और उत्तर प्रदेश में प्रयागराज में माघ मेला मनाया जा रहा है उसी की तर्ज पर हरिद्वार कुंभ मेले को भी भव्य स्वरूप दिया जाए इसी को लेकर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की 25 तारीख को नया उदासीन में अहम बैठक आयोजित की गई है


अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का कहना है कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद और उत्तराखंड सरकार की वार्ता हुई थी कि कोरोना महामारी को देखते हुए निर्णय लिया जाएगा कि कुंभ का स्वरूप क्या हो अब कोरोना महामारी कम हो रही है और उत्तर प्रदेश सरकार माघ मेला भव्य रुप से मनाने जा रही है माघ मेले में टेंट की व्यवस्था की जा रही है इसलिए हमने निर्णय लिया है हरिद्वार का कुंभ भी 2010 की तर्ज पर ही होगा और भव्य कुंभ होगा इसमें कोई किंतु परंतु नहीं है हम मुख्यमंत्री से आग्रह करते हैं यहां के मेला प्रशासन को निर्देश दे कि मेला भव्य कराएं जब सारे सामाजिक कार्य हो रहे हैं बिहार में चुनाव हो गए सभी राजनीतिक दल अपनी-अपनी पार्टियों का अभियान चला रहे हैं तो हरिद्वार का कुंभ क्यों नहीं हो सकता हम प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से मांग करते हैं कुंभ मेला कराने के लिए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को निर्देश दे और यह बहुत जरूरी हो गया है कल 12 बजे अखाड़ा परिषद मेला अधिकारी के साथ सभी अखाड़ों में जाकर उनके पेशवाई मार्ग उनके छावनी के स्थान और अखाड़े में क्या कार्य हो रहा है इसको लेकर निरीक्षण करेंगे साथ ही अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की एक बैठक 25 तारीख को नया उदासीन अखाड़े में की जाएगी इनका कहना है कि धर्म ध्वजा के लिए हमारे द्वारा मांग की है कि धर्म ध्वजा 2 महीने पहल सभी अखाड़ों में पहुंच जाए मगर अभी तक नहीं पहुंची है इसके लिए मेला अधिकारी सेे मेरी वार्ता हुई है उन्होंनेेे वन विभाग को लेटर लिखा है कि वन विभाग के अधिकारी सभी अखाड़ों में जाए और जिन अखाड़ों को जितनी लकड़ी चाहिए उतनी व्यवस्था की जाए


बाइट -- नरेंद्र गिरी --अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष


वहीं अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महामंत्री हरी गिरी का कहना है कि कुंभ मेले को लेकर हमारी प्राचीन परंपराएं हैं और वह आज भी है कोरोना महामारी की स्थितियों में काफी अंतर पढ़ चुका है प्रयागराज में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद टेंट की व्यवस्था की जा रही है और भव्य तरीके से प्रयागराज मेला हो रहा है इसीलिए प्रयागराज के मेले को देखते हुए वहां 5 से 10 लाख टेंट की व्यवस्था की जा रही है अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष के सामने ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वहां के जिलाधिकारी को सभी व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं कि प्रयागराज मेला को भव्य तरीके से कीजिए तो उसी प्रकार से हरिद्वार में गौरी शंकर पर जितने हमारे महामंडलेश्वर है और जितने साधु संत हैं उनके लिए टेंट की व्यवस्था की जाए जैसे 2010 1986 1998 के कुंभ में की गई थी क्योंकि अखाड़ों के पास शहर में रहने की जगह नहीं है इसलिए हम मुख्यमंत्री से मेला प्रशासन से और कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक से आग्रह करते हैंइस क्षेत्र में साधु-संतों के लिए टेंट की व्यवस्था की जाए


Comments

Popular posts from this blog

ब्रेकिंग -हरिद्वार में भूकंप के झटके

कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर सील हुआ उत्तराखंड का बॉर्डर, देखें

पूर्ति निरीक्षक रिश्वत लेते हुए कैमरे में हुआ कैद वीडियो हुआ वायरल