सड़कों पे फैंका जा रहा कचरा



  • सड़कों पे फैंका जा रहा कचरा


रुड़की : जहाँ एक तरफ कोरोना वायरस को लेकर देशभर में अलर्ट जारी कर साफ़ सफाई रखने के विशेष निर्देश दिए जा रहे है तो वही रुड़की शहर में अस्पतालों से निकलने वाला कचरा खुले में डालकर तमाम आदेशो की धज्जियां उड़ाई जा रही है। साथ ही जानलेवा बीमारियों को न्यौता भी दिया जा रहा है। मामला संज्ञान में आने के बाद निगम अधिकारी हरकत में आए और जांच कर सम्बंधित अस्पताल के ख़िलाफ़ कार्यवाही के निर्देश दिए गए है। 


बता दे कि मेडिकल बायो वेस्ट को खुले में डालने या अन्य कूड़े के साथ डालने पर प्रतिबंध है। लेकिन बावजूद इसके रुड़की के ईदगाह चोक स्थित प्राइवेट अस्पताल और सरकारी अस्पताल के पास ऐसा कचरा पड़ा मिला, जिसमे बलड तक मौजूद था, जानकार बताते है कि मेडिकल बायो वेस्ट काे खुले में डालने और जलाने से जहां वातावरण प्रदूषित होता है तो वहीं इससे कई तरह के संक्रामक रोग व्यक्ति को हो सकते हैं। भारत सरकार व मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के अनुसार ऐसे कचरे से इनफेक्शन, एचआईवी, महामारी, हेपेटाइटिस जैसी बीमारियां होने का भी खतरा रहता है। बायोमेडिकल वेस्ट अधिनियम 1998 के अनुसार निजी व सरकारी अस्पतालों को इस तरह के चिकित्सीय जैविक कचरे को खुले में या सड़कों पर नहीं फेंकने का प्रावधान है वही इस कचरे को घरों से निकलने वाले सामान्य कचरे में भी नही मिलाना चाहिए। बायोमेडिकल वेस्ट नियम के अनुसार इस जैविक कचरे को खुले में डालने पर अस्पतालों के खिलाफ जुर्माना व सजा का भी प्रावधान है। 


 रुड़की नगर निगम के नगर सहायक अधिकारी चंद्रकांत भट ने बताया कि अस्पतालों से निकलने वाला कचरा खुले में डालना गलत है, उन्होंने इस मामले का संज्ञान लेते हुए तत्काल निगम कर्मचारियों की एक टीम को जांच कर अस्पताल के खिलाफ़ नियमानुसार कार्यवाही करने के निर्देश दिए है। उन्होंने बताया साफ़ सफाई पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।


 


Comments

Popular posts from this blog

ब्रेकिंग -हरिद्वार में भूकंप के झटके

कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर सील हुआ उत्तराखंड का बॉर्डर, देखें

पूर्ति निरीक्षक रिश्वत लेते हुए कैमरे में हुआ कैद वीडियो हुआ वायरल