प्राकृतिक जलस्रोत पर खतरे के बादल


  • प्राकृतिक जलस्रोत पर खतरे के बादल


भगवान सिंह पौड़ी गढ़वाल   



  •        पौड़ी जनपद के सतपुली क्षेत्र में पीएमजीएसवाई की एक सड़क ने ग्रामीणों की पेयजल संकट की मुसीबतें को अब और बढा दिया  हैं जिसकी वजह से ग्रामीण अब सड़क पर आंदोलन को मजबूर हो गए हैं दरअसल इस क्षेत्र में बंदूण गांव से ताड़केश्वर को जाने वाली पीएमजीएसवाई सड़क पर हो रही ब्लास्टिंग से 800 ग्रामीणों का एक मात्र प्राकृतिक जलस्रोत पर खतरे के बादल मंडराने लगे हैं ग्रामीणों का डर है कि सड़क पर की जा रही ब्लास्टिंग से उनकी प्यास बुझाने वाला एक मात्र जलस्रोत भी इस बकास्टिंग के कारण समाप्त हो जाएगा जिस कारण ग्रामसभा के लोगों जलस्त्रोत से 100 मीटर नीचे से सड़क को आगे ले जाने की मांग के साथ ही ब्लास्टिंग रोकने के मांग प्रशासन से कर रहे हैं इस मसले पर ग्रामीणों ने  जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल से मुलाकात की, लोगों ने बताया की ग्राम सभा में पीएमजीएसवाई विभाग की ओर से सड़क निर्माण कार्य करवाया जा रहा है, ग्रामीणों का कहना है कि सड़क निर्माण से उनका प्राकृतिक जल स्रोत समाप्त हो जाएगा,जिसको देखते हुए जिलाधिकारी पौड़ी ने ग्रामीणों के साथ साथ संबंधित विभाग को भी पौड़ी बुलाया, जहां सबके समक्ष इस समस्या के निवारण के लिए वार्ता की गई,जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल निर्देश देते हुए अब  आगामी 29 जनवरी को एक तकनीकी टीम का गठन कर मौके पर जाने के निर्देश दिए हैं जिसमे जियोलॉजिस्ट की टीम भी शामिल है जो जलस्रोत की तकनीकी जांच कर अपनी डीएम को देगी रिपोर्ट के बाद ही इस पर कोई फैसला लिया जाएगा। ग्रामीणों ने आश्वासन दिया है कि रिपोर्ट आने तक अब वह अपना धरना स्थगित रखेंगे लेकिन स्कारतात्मक फैसला न हुवा तो आंदोलन की राह फिर से पकड़ी जाएगी।



Comments

Popular posts from this blog

ब्रेकिंग -हरिद्वार में भूकंप के झटके

कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर सील हुआ उत्तराखंड का बॉर्डर, देखें

पूर्ति निरीक्षक रिश्वत लेते हुए कैमरे में हुआ कैद वीडियो हुआ वायरल