महिला श्रमिक का आक्रोश, पत्रकारों से भी उलझी महिला


महिला श्रमिक का आक्रोश, पत्रकारों से भी उलझी महिला


महिला श्रमिक ने सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय के बाहर ही मजिस्ट्रेट को बाहर निकलने की दी धमकी। 
बद जुबानी से पत्रकारों से भी उलझती रही महिला।


 अन्य श्रमिकों के कहने पर शांत हुई महिला। 



 मो आरिफ


सितारगंज:- गुजरात अंबुजा की महिला श्रमिक ने सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय के बाहर ही अपनी बद जुबानी से हुड़दंग मचाया। अपनी मांगों को लेकर श्रमिक सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पहुंचे थे। पूरा मामला बता दें कि गुजरात अंबुजा के श्रमिकों द्वारा पिछले 4 दिनों से अपनी विभिन्न मांगों को लेकर धरना दे रहे थे। दो दिन पूर्व प्रशासनिक अधिकारी ने फैक्ट्री प्रबंधन और श्रमिकों के बीच वार्ता भी कराई थी।अधिकारियों के अनुसार बृहस्पतिवार को धरना समाप्त होना था। उप जिलाधिकारी निर्मला बिष्ट पुलिस क्षेत्राधिकारी सुरजीत सिंह के  समझाने के बाद भी श्रमिक धरने से नहीं उठे। बृहस्पतिवार को श्रमिक फैक्ट्री के मुख्य गेट पर रास्ता बंद कर धरना दे रहे थे। देर शाम पुलिस व पीएसी ने फैक्ट्री गेट से श्रमिकों को हटाया था। जिसके बाद शुक्रवार को सभी श्रमिक मुख्य बाजार होते हुए सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पहुंचे और मुख्यमंत्री को विभिन्न मांगों को लेकर संबोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को दिया। उस दौरान महिला श्रमिक की बद जुबानी शुरू हुई मजिस्ट्रेट कार्यालय के बाहर मजिस्ट्रेट को बाहर निकलने की धमकी देती रही। यही नहीं सिटी मजिस्ट्रेट के स्टाफ से भी  महिलाएं भड़कती रही। श्रमिकों की बद जुमानी यहीं खत्म नहीं हुई उन्होंने पत्रकारों से भी सवाल कर डाला उन्होंने कहा कि जब पुलिस कल हमें जबरन उठा रही थी तब तुम पत्रकार कहां थे और अब क्या करने आए हो यहां से चले जाओ। महिला श्रमिकों की बद जुमानी और दबंगई देख वहां मौजूद सभी लोग दंग रह गए। 


 


Comments

Popular posts from this blog

ब्रेकिंग -हरिद्वार में भूकंप के झटके

कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर सील हुआ उत्तराखंड का बॉर्डर, देखें

पूर्ति निरीक्षक रिश्वत लेते हुए कैमरे में हुआ कैद वीडियो हुआ वायरल