बिना कांच निकाले सिल दिया हाथ



  • बिना कांच निकाले सिल दिया हाथ


 


रुद्रपुर शाहिद खान




  •  दी मेडिसिटी हॉस्पिटल का कारनामा, बिना कांच निकाले सिल दिया हाथ

  • आरोपी डॉक्टर ने नशे कि हालत में किया उपचार

  • महिला का पति आरोपी डॉक्टर के खिलाफ जांच के लिए लगा रहा गुहार

  • पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करने से किया इंकार


सोशल मीडिया पर मदद की गुहार लगाने की वीडियो वायरल


शाहिद खान


रुद्रपुर। प्रदेश सरकार स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए लाखों वादे करे, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। ऐसा ही मामला उत्तराखंड के सबसे बड़े जिला ऊधम सिंह नगर में सामने आया है।


बता दें कि रुद्रपुर में स्थित दी मेडिसिटी हॉस्पिटल हमेशा विवादों में रहा है। कभी फर्जी डिग्री के डॉक्टर तो कभी इलाज के नाम पर लाखों रुपए लेने पर अस्पताल विवादों में रहता है।


रुद्रपुर निवासी अजय रस्तोगी ने सोशल मीडिया पर एक विडीयो पोस्ट शेयर की है। इसमें उन्होंने बताया कि उनकी पत्नी अंजलि रस्तोगी कांच लगने से गंभीर रूप से घायल हो गईं थीं। उन्होंने पत्नी को दी मेडिसिटी में भरती कराया।  हैरानी की बात है कि इतने बड़े हॉस्पिटल में डॉक्टर्स ने बिना हाथ का एक्सरे करे उनकी पत्नी का हाथ टांके लगा कर सिल दिया। इसमें कांच के करीब दस टुकड़े उनके हाथ में ही रह गए। इससे वह ज़िंदगी मौत से जूझ रही हैं। आरोप लगाया कि डॉक्टर शराब के नशे में धुत था।


सीएम पोर्टल पर शिकायत, लेकिन जांच लापरवाह अफसर को


पीड़ित ने बताया कि उन्होंने पूरे मामले की शिकायत सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के पोर्टल पर की। जिसके बाद सीएमओ ने जांच सरकारी अस्पताल में तैनात अविनाश खन्ना को सौंप दी। हैरानी की बात ये है जिस डॉक्टर को जांच सौंपी गई है अभी तक उन्होंने आरोपी डॉक्टर के खिलाफ कोई जांच रिपोर्ट सीएमओ को नहीं सौंपी है। इतना ही नहीं, वह पीड़ित को जांच के बारे में भी अवगत नहीं कराते। इससे साफ जाहिर होता है जांच अधिकारी अविनाश खन्ना आरोपी डॉक्टर को बचाने का पूरी तरह प्रयास कर रहे है। पीड़ित ने जांच ईमानदार अधिकार जगदीश कांडपाल को सौंपने की गुहार लगाई है।


Comments

Popular posts from this blog

ब्रेकिंग -हरिद्वार में भूकंप के झटके

कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर सील हुआ उत्तराखंड का बॉर्डर, देखें

पूर्ति निरीक्षक रिश्वत लेते हुए कैमरे में हुआ कैद वीडियो हुआ वायरल