हरकीपोड़ी का होना चाहिए विस्तार








             विभास मिश्रा





गंगा घाट का विरोध

 

2021 में आयोजित होने वाले महाकुम्भ को लेकर मेला प्रसाशन कई नए घाटो का निर्माण कर रहा है। करोड़ो श्रद्धालुओं के स्नान हेतु बन रहे इन घाटो को लेकर विरोध के स्वर भी उठने लगे है। स्थानीय लोगो की माने तो हरकी पौड़ी ब्रहमकुंड पर ही कुम्भ स्नान का पौराणिक महत्व है ऐसे में नए घाट की जगह हरकी पौडी का विस्तार किया जान चाहिए | 

 

वीओ 1 :- हरकीपौडी स्थित ब्रह्मकुंड में आदिकाल से ही गंगा स्नान का महत्व माना गया है। समुद्र मंथन में अमृत की बून्दे यंहा गिरी थी , जिसके बाद सनातन परंपरा के तहत इसी स्थान पर स्नान का महत्व माना गया है। कुम्भ के दौरान भारी भीड़ को देखते हुए मेला प्रसाशन अब कई नए घाट बना रहा है। अधिकारियों के अनुसार नए घाट के बन जाने से क्राउड मैनेजमेंट में आसानी होगी। इसके साथ ही प्रमुख स्नानों वाले दिन दुर्घटना की आशंका भी कम होगी |  

 नए घाटो को लेकर लोगो मे खुशी तो है, मगर उनका मानना है कि परम्परा व आस्था के तहत जो भी श्रद्धालु या साधु संत हरिद्वार आता है वो हर की पैड़ी ब्रहमकुंड में ही स्नान करता है। ऐसे में श्रद्धालुओं के लिए हर की पैड़ी स्थित घाटों का विस्तार किया जाना चाहिए .

मेला प्रसाशन के अनुसार इस बार कुम्भ में 15 करोड़ से ज्यादा श्रद्धालुओं के आने की सम्भावना है। भीड़ के दबाव को कम करने के लिए नए घाट जरूरी है।मगर सबसे बड़ा सवाल है कि भीड़ के दबाव की बात कह कर पौराणिक  महत्त्वता वाले ब्रह्मकुंड में श्रधालुओ को स्नान से रोकना , यहाँ आने वाले श्र्दलुओ की आस्था और भावना से खिलवाड़ तो नही होगा |

 


 

 








 


Comments

Popular posts from this blog

ब्रेकिंग -हरिद्वार में भूकंप के झटके

कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर सील हुआ उत्तराखंड का बॉर्डर, देखें

पूर्ति निरीक्षक रिश्वत लेते हुए कैमरे में हुआ कैद वीडियो हुआ वायरल