गुलदार को लेकर सोशल मीडिया पर किये जा रहे दावों को वन प्रभागीय अधिकारी ने सिरे से नाकारा 


गुलदार को लेकर सोशल मीडिया पर किये जा रहे दावों को वन प्रभागीय अधिकारी ने सिरे से नाकारा











 

वर्तमान समय में धर्मनगरी हरिद्वार के रानीपुर कोतवाली क्षेत्र में आने वाली भारत की नवरत्न कंपनी भेल के कई क्षेत्रों में गुलादर का आतंक है यह गुलदार अब नरभक्षी बन चुका है और इसने एक युवक को कुछ समय पहले ही अपना निवाला बनाया था इस गुलदार की दहशत की वजह से स्थानीय लोग डर के साए में जीने को मजबूर हैं वही अब कई असामाजिक तत्वों द्वारा सोशल मीडिया पर तरह-तरह की वीडियो गुलदार को लेकर वायरल की जा रही है और इन वीडियो मैं इन असामाजिक तत्वों द्वारा दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो हरिद्वार के भेल क्षेत्र में आतंक का पर्याय बन चुके नरभक्षी गुलदार की है इन वायरल वीडियो में आखिर कितनी सच्चाई है यह हमने जानने की कोशिश की और हम पहुंच गए हरिद्वार केे वन प्रभागीय अधिकारी आकाश वर्मा के पास और हमने जानी इन वायरल वीडियो की सच्चाई

 

आपको बता दें कि हरिद्वार के भौगोलिक स्थिति के हिसाब से हरिद्वार के अधिकांश क्षेत्र राजाजी टाइगर रिजर्व और वन विभाग से सटे हुए हैं और यही कारण है कि आए दिन जंगली जानवर रिहायशी इलाकों का रुख कर लेते हैं हाथी हो या गुलदार सांभर हो या चितल हिरन या अन्य कोई जंगली जानवर आए दिन रिहायशी इलाकों में दस्तक देते रहते हैं जब यह जंगली जानवर रिहायशी इलाकों में आते हैं तो एक तकरार की स्थिति इंसान और जानवर के बीच बनती है और कई बार इस टकराव का खामियाजा स्थानीय लोगों को अपनी जान गवा कर भुगतना पड़ता है अभी भी एक गुलदार भेल क्षेत्र में आतंक का पर्याय बना हुआ है और इस गुलदार को लेकर तरह तरह की भ्रामक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल की जा रही हैं सोशल मीडिया पर वायरल हो रही इन वीडियो से स्थानीय लोगों मेंं दहशत और ज्यादाा बढ़ जाती सााथ ही वन विभाग को भी अपना कार्य कुशलताा पूर्वक करने मैं काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है 

 


सोशल मीडिया पर गुलदार को लेकर वायरल हो रही तरह-तरह की वीडियो पर जब हमने हरिद्वार के वन प्रभागीय अधिकारी आकाश वर्मा से बात की तो इनका कहना है कि आज दो वीडियो मेरे पास आए हैं या दोनों वीडियो हरिद्वार नरभक्षी गुलदार के कहकर वायरल किए जा रहे हैं इनमें से एक वीडियो जिसमें गुलदार द्वारा बाइक सवार लोगों पर हमला किया जा रहा है यह वीडियो एक व्यक्ति द्वारा कार में बैठकर बनाया गया है इसकी हमारे द्वारा जांच की गई है जांच में पता चला है कि यह वीडियो नैनीताल का है और करीब 2 साल पुराना वीडियो है यह वीडियो हरिद्वार का बताकर प्रचलित किया जा रहा है और मैं सब को बताना चाहता हूं कि यह वीडियो हरिद्वार का नहीं है दूसरे वीडियो के बारे में हमारी टीम द्वारा जांच की जा रही है कि यह वीडियो कहां का है वन प्रभागीय अधिकारी इस वीडियो को भी हरिद्वार का होने से इंकार कर रहे हैं आकाश वर्मा इस तरह की वीडियो को लेकर लोगों से डरने और भ्रमित ना होने की अपील कर रहे हैं वही नरभक्षी गुलदार के बारे में आकाश वर्मा का कहना है कि है कि जल्द ही गुलदार को पकड़ लिया जाएगा









Comments

Popular posts from this blog

ब्रेकिंग -हरिद्वार में भूकंप के झटके

कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर सील हुआ उत्तराखंड का बॉर्डर, देखें

पूर्ति निरीक्षक रिश्वत लेते हुए कैमरे में हुआ कैद वीडियो हुआ वायरल